logo

वर्तमान बाजार की स्थिति और उचित सुझाव

By Nivesh Gyan   21 मार्च

Category: General

वैश्विक स्तर पर बाजार COVID-19 समस्या की अनिश्चितता के कारण बेहद अस्थिर हैं। विभिन्न देशों ने व्यवसायों को प्रभावित करने वाले लॉकडाउन लगाए हैं। इस तरह के लॉकडाउन अभूतपूर्व हैं। तेल की कीमतों में गिरावट (लगभग 50% की गिरावट) ने अमेरिका जैसी बड़ी अर्थव्यवस्थाओं की समस्याओं को और बढ़ा दिया है। ऐसा माना जा रहा है की  कुछ देश वैश्विक मांग को प्रभावित करते हुए आर्थिक मंदी में जा सकते हैं। हमने यहाँ विभिन्न परिसंपत्ति वर्गों और हमारे सुझाए गए दृष्टिकोण का संक्षिप्त विश्लेषण दिया गया है l आईये जानते है:

इक्विटी बाजार

  • मौजूदा अनिश्चितता बाजार को अस्थिर बनाए रखेगी। वापसी  इस बात पर निर्भर करेगी कि कोविद -19 की स्थिति कब और कैसे नियंत्रित होती है। यदि अगले 2-3 सप्ताह में स्थिति को नियंत्रित किया जाता है, तो हम तेज वापसी देख सकते है l  दूसरी ओर, यदि स्थिति नियंत्रण से बाहर हो जाती है, तो हम और अधिक गिरावट देख सकते हैं, और पुनर्प्राप्ति में 12 से 18 महीने तक का समय लग सकता है। अभी किसी के लिए भी अल्पकालिक दिशा की भविष्यवाणी करना बहुत ही असंभव है।
  • इस गिरावट ने  ने समग्र बाजार को विशेष रूप से लार्ज-कैप के मूल्याङ्कन को आकर्षक बना दिया है जो पिछले महीने में बहुत अधिक मूल्यांकन पर कारोबार कर रहा था।
  • पिछले 100 वर्षों में, यदि हम अन्य महामारियों के इतिहास को देखें, तो यह किसी भी मामले में  ये 1 वर्ष से अधिक समय तक कायम नहीं रह सका है, चाहे वह SARS, EBOLA, स्वाइन फ़्लू, इत्यादि, एक बार अगर दहशत का माहौल ख़त्म हो जाएगा तब परिस्थिति और स्पस्ट हो जाएँगी 
  • अगर चीजे स्पस्ट हो जाएंगी तो उनका प्रभाव भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए सकारात्मक होगा 
     

    • भारत विश्व बाजारों के साथ पूर्णतः एकीकृत नहीं है और  भारत के पास स्वयं की एक बड़ी घरेलू मांग है। 
    • वैश्विक कंपनियां भारत को वैकल्पिक सोर्सिंग हब के रूप में देखेंगी। और अब भारतीय कंपनियां भी स्थानीय विनिर्माण को प्राथमिकता देंगी।
    • तेल की कीमतों में कमी से सरकार की राजकोषीय स्थिति में बहुत ही सुधार होगा ।

सुझाव 

 

यह एक अभूतपूर्व स्थिति है लेकिन हम सभी जानते हैं कि दुनिया में कोई भी समस्या हमेशा के लिए नहीं होती है। प्रत्येक समस्या अस्थायी है और यह स्थिति भी अंततः समाप्त  होगी। ऐसी स्थिति में जहां हर कोई डरा हुआ है,लेकिन यह  आपके निवेश के लिए बहुत ही बेहतर समय है।

वॉरेन बफेट भी कहते है  “आप तब ही ख़रीदे, जब हर कोई भयभीत हो “

 

  • यह समय एसआईपी के जरिए कम से कम एक साल को ध्यान में रखते हुए इक्विटी में निवेश करने के लिए बहुत ही  उचित है। निवेशक निवेश के लिए लार्ज-कैप फंड चुन सकता है , क्योंकि लार्ज-कैप में रिस्क कम होता है और वे मिड-कैप और स्मॉल-कैप से तेज वापसी कर सकते हैं।
  • इक्विटी में एकमुश्त के बजाय साप्ताहिक एसटीपी के मार्ग से निवेश करें
  • बाजार को निचले स्तर पर पकड़ने का प्रयास न करें क्योंकि कोई भी सटीक तल को पकड़ नहीं सकता है
  • अपने मौजूदा फंड को न बेचे और कम कीमतों को पकड़ने के लिए आप अपने एसआईपी को न रोके । हालांकि, अगर घबराहट बनी रहेगी तो आप पोर्टफोलियो में अच्छी रिकवरी आने के पश्चात अपने एकमुश्त पैसे को निकाल सकते है  लेकिन आपको एसआईपी जारी रखना चाहिए।

ऋण बाजार

  • डेट मार्केट भी इस चौतरफा बिकवाली  से प्रभावित हुआ है, खासकर एफआईआई सहित सभी बड़े निवेशकों ने जो मार्जिन कॉल्स को पूरा करने के लिए बिकवाली की है, क्योंकि उनके ट्रेडिंग पोजीशन बेहद प्रभावित हुए हैं और इससे बॉन्ड की मांग और आपूर्ति में एक बड़ा अंतर आया है। 
  • इससे बांड की यील्ड  में तेज वृद्धि हुई और बांड की कीमतों में गिरावट आई है। तदनुसार, एनएवी में भी गिरावट आयी है और अल्पावधि में नकारात्मक रिटर्न देखने को मिले ।
  • यह एक सामान्य बात है और यह आमतौर पर ऐसी स्थितियों में होती रहती  है
  • हालात सामान्य होते ही यह बहुत तेजी से सामान्य हो जायेगा 
  • अभी का समय उच्च बांड यील्ड और दर में कटौती की सम्भावना को देखते हुए अच्छी  गुणवत्ता वाले ऋण फंड में निवेश के लिए उत्कृष्ट अवसर प्रस्तुत करता है।

सुझाव

 

न्यूनतम 6 महीने के परिप्रेक्ष्य में उच्च गुणवत्ता वाले कागजात के साथ डेट फंड में निवेश करने का उचित समय है।  यदि आप इस बीच कुछ अस्थिरता आती है तो परेशान न हों। मौजूदा यील्ड को देखते हुए आप अगले एक साल में 8-10% रिटर्न की उम्मीद कर सकते है। 

आर्बिट्राज फंड्स

  • अभी मार्किट में आर्बिट्राज के अवसर कम हो गए हैं क्योंकि वायदा कारोबार नकद मार्किट की तुलना में डिस्काउंट पर  चल रहा है। और स्थिति अगले 2-3 महीनों तक जारी रह सकती है। इसलिएयहाँ अभी रिटर्न्स की सम्भावना कम है । हालांकि, यहाँ पूंजी की जोखिम की सम्भावना भी कम है ।

सुझाव 

 

  • अगर आपका पैसा छोटी अवधि के लिए था तो आप अपने  आर्बिट्राज फंड को ओवरनाइट फंड्स में स्थानांतरित कर सकते है , । यदि ये लंबी अवधि के लिए आयोजित किए जाने थे, तो अच्छी गुणवत्ता वाले डेब्ट फंड्स में निवेश कर सकते है। 

सोना

  • अधिक तरलता की अपेक्षा में चौतरफा बिकवाली से सोने की कीमतों में भी गिरावट आई है जो 45,000 रुपये के स्तर पर पहुंच गई थी।
  • वर्तमान स्थिति में निवेश के लिए सोना बहुत ही अनुकूल है क्योंकि इसे सुरक्षित आश्रय के तौर पर देखा जाता है
  • सोने और इक्विटी के रिटर्न्स का आपस में विरोधाभास सम्बन्ध है जब भी इक्विटी में तेज गिरावट आती है उस समय सोना अच्छा लाभ देता है ।

सुझाव

 

  • आप अभी गोल्ड फण्ड में एकमुश्त निवेश कर सकते है या एसआईपी शुरू कर सकता है

कॉर्पोरेट एफ-डी

  • इस समय आप अच्छी गुणवत्ता वाले किसी भी हॉउसिंग फाइनेंस कंपनी के फिक्स्ड डिपाजिट में निवेश कर सकते है क्योकि इनकी ब्याज दर बैंको से अधिक है और ये आने वाले समय में अगर ब्याज दरो में कटौती होती है तो आपको अच्छा लाभ पहुचायेंगे उदाहरण के लिए आप PNB हॉउसिंग फाइनेंस या HDFC हॉउसिंग फाइनेंस जैसी कंपनी का चुनाव कर सकते है, इनकी क्रेडिट गुणवत्ता बहुत बेहतर है l

पी 2 पी लेंडिंग 

  • वर्तमान समय में पी 2 पी ज्यादा निवेश न करे , क्योंकि छोटे व्यवसायों को वर्तमान आर्थिक परिस्थितियों के कारण समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।